ATM क्या हे और उसे चलाने का फ़ायदा – ATM in Hindi

Spread the love

दुनि भर में पैसा उठाने केलिए इस्तिमाल करने बाला मेसिन को कोण नहीं जनता जी हाँ दोस्तों आप ठीक अंदाजा लगाया में एटीएम की बात बल रही हूँ आज हम जानेंगे ATM क्या हे और ATM in Hindi उसे चलाने का फ़ायदा क्या आपको उसकी ब्यबहार की बारेमे पत्ता हे यदि नहीं हे और आप सीखना चाहती हो तो आप मेरे साथ बने रहे ।

जिसदिन से ये मेसिन आया बैंक कर्मचारी के साथ साथ ग्राहक को भी बैंककी भीड़ में खड़े होनेकी परिसानी ख़तम हो गया । पैसा उठाने केलिए किसी Bank को जाना नहीं पड़ेगा या लम्बी लाइन में कड़ी होने की झेन झट भी नहीं हे ।

ATM से हम को पैसा उठाने केलिए कोई निर्धारित समय नहीं जब चाहे उठा सकते हो । पैसा उठाने का काम ही केबल नहीं उन पर आप एटीएम पिन जेनेरेट, डिपाजिट के साथ और भी बहत काम कर पाओगी ।

टेक्नोलॉजी बदलने की कारन आज जो एटीएम मेसिने देख रही हो उन पर आप बिना बैंक जाए साडी काम कर पाओगी व भी बड़ी आसानी से ।

एटीएम क्या हे [What is ATM in Hindi]

एटीएम एक स्वयं चलित मेसिन हे जिसको आटोमेटिक ट्रेलर मेसिन कहाजाता हे जिससे आपकी बैंक का डेबिट कार्ड इस्तिमाल करके पैसा उठा सकते हो । जब आप machine पर अपना card लगाओगी बैंक की पास एक signal जाती हे उसके बाद आपकी सारि जानकारी उनपर देखने को मिलेगा ।

उसी मेसिन के साथ और भी बहत सरे internal, extronal device जुड़े हो के रहते हे व हे Mouse, Keybord, Monitor उन सभी ने मिलकर बैंक और एटीएम की बिच में जो काम होती हे उसी काम को करते हे यदि कोई कस्टमर उन मेसिन पर अपना कार्ड डालती हे उसे बैंक की Host Processer के साथ जुड़े रहती हे इसके द्वारा आप बिना बैंक जाए बैंककी सारि काम कर सकते हो ।

CVV Number क्या होती हे

एटीएम से पैसा कैसे निकले

  • एटीएम से पैसा निकलने केलिए उन मेसिन पर आपकी कार्ड लगाना हे
  • आप अपना एटीएम कार्ड की पीछे एक Magnetic Strip देखि होगी जिनमेंसे आपकी बैंक की सारि जानकारी कोड के रूप में छुपी हुई रहती हे ।
  • जब आपकी कार्ड मेसिन में लगाओगी मैग्नेटिक स्ट्रिप में छुपा हुआ code को मेसिनने पढ़ लेती हे और host processer के पास सारि डाटा चली जाती और व आपकी ट्रांजेक्शन का रास्ता साफ कर देती ।
  • आप cash निकलना या चेक करनेकी प्रकिया कंप्यूटर स्क्रीन में दिखाई देती ।
  • आप जब पैसा उठाने की बिकल्प चुनेगी होस्ट प्रोसेस्सर और bank की बिच एक Electronic Fund Transfer प्रक्रिया होती हे ।
  • उसी प्रक्रिया पुरे होने से एटीएम अप्रूवल होती हे और पैसा निकलती हे ।

ATM कब सुरु हुई

सुरबत में उसीका नाम एटीएम नहीं था बल की 1960 में ये Bankgraph नाम पर जाना जाता था । John Shepherd Barron नाम की एक बैज्ञानिक ATM का अबीसीकर की थी । साल 1967 जून 27 में लंदन का एक बैंक जिसका नाम बर्केल (Barkel) पर पहेली बार ब्यबहार हुई थी ।

ATM का अर्थ क्या हे

ऐसे देखाजाए तो हर किसीके कुछ न कुछ अर्थ होती हे उसी तरह एटीएम एक short नाम हे उनका पूरा नाम आटोमेटिक ट्रेलर मेसिन (Automatic Teller Machine) जिसको हिंदी में स्वयं चलित गणक मेसिन कहती हे और कोई कोई उसीको Automatic Banking Machine, Cash Point और bankmart  भी कहते हे ।

भारत में एटीएम कब सुरु हुई

HSBC ( Hongkong and Shanghai Banking Corporation Limited) ने साल 1987 में पहेली बार मुंबई में एटीएम का सुभरम्भ की थी उसी दिन से आज तक उसीका ब्यबहार बढ़ते बढ़ते और भी बहत बैंक का ATM आ गई जिसके द्वारा हमारे जीबन सरल मय गई ।

क्या एटीएम इंटरनेट से चलती हे

जी हाँ दोस्तों आप ने बिलकुल सही प्रश्न पूछा जो जानना बहत ही जरुरी हे उसीका जबाब ATM पूरी तरह internet पर चलती हे लेकिन हम सब ने जो फ़ोन या कंप्यूटर को चलने में इस्तिमाल करते हे व इंटरनेट नहीं हर बन का अलग अलग प्राइवेट इंटरनेट होती हे जिसके द्वारा अपने ग्राहक को ह्याकर से बचा के रखती हे ।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *